सोमवार, 9 मार्च 2009

वह कौन था



एक दिन सुबह वह
अपनी उत्‍पति के बारे में जानने की
खुनी और रुहानी जल्‍दबाजी में पाया गया,


वह पागलों की तरह खुद को
कभी हिंदू तो कभी मुसलमान कहकर
चिल्‍ला रहा था,



जाहिर है
उसके सोचने के बारे में
भला हम क्‍या सोच सकते थे
हमने उसकी ओर गौर से देखा,
पर पहचानना मुश्किल था
बावजूद इसके कि
वह आया हमीं में से था।

2 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर ... होली की ढेरो शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  2. एक दिन सुबह वह
    अपनी उत्‍पति के बारे में जानने की
    खुनी और रुहानी जल्‍दबाजी में पाया गया,
    वह पागलों की तरह खुद को
    कभी हिंदू तो कभी मुसलमान कहकर
    चिल्‍ला रहा था,
    जाहिर है
    उसके सोचने के बारे में
    भला हम क्‍या सोच सकते थे
    हमने उसकी ओर गौर से देखा,
    पर पहचानना मुश्किल था
    बावजूद इसके कि
    वह आया हमीं में से था।....Waah..!bhot sunder abhivyakti...!!

    उत्तर देंहटाएं